माता लक्ष्मी जी की आरती – Aarti Lakshmi Mata Jee Ki

Diwali maa Lakshmi aarti: यहां पढ़ें ओम जय मां लक्ष्मी माता, लक्ष्मी जी की आरती

देवी मां का एक रुप लक्ष्मी जी का भी है जो भगवान विष्णु की अर्धांगनी हैं. मां लक्ष्मी का अवतरण धरती पर सागर मंथन के दौरान हुआ था. लक्ष्मी जी को सुख-सपंत्ति और धन वैभव की देवी माना जाता है.

दिवाली पर मां लक्ष्मी का घर में आगमन होने पर लोगों का भाग्य बदल जाता है। दिवाली पर प्रथम पूज्य गणेश और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता

तुमको निशदिन सेवत, मैया जी को निशदिन * सेवत हरि विष्णु विधाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता

सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता

जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता

कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता

सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता

खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता

रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता

उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता

तुमको निशदिन सेवत,

मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता

ॐ जय लक्ष्मी माता-2

Related Posts

2 thoughts on “माता लक्ष्मी जी की आरती – Aarti Lakshmi Mata Jee Ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *